Friday, August 3, 2007

दिमाग चटाऊ गप्प पर टोला में चर्चा शुरू भ रहल छै.....

काज करैत काल पता नै , दिमाग कत चल जायत छै. पता करैत छी त दिमाग सेहो हीरो बैन जाएत अछि. इ दिमाग होते छै अहिना.
पता करै छी कि कारण की छै.....

दिमागी कसरत करबाक इच्छा हुए त नौकरी करू..

हमर अधिकतर दोस्त इ गप्प कहैत अछि....

हमरो हाल आजु अहिना अछि...आफिस मे मन ने लागल..त रिपोर्टिंग में गेलों....
लेकिन इ कि ......मन लगतै ने अछि//////

मन पर आधारित अहिना दिमाग चटाऊ गप्प पर टोला में चर्चा शुरू भ रहल छै.....
अहुं सब आऊ.......

4 comments:

Nishikant Tiwari said...

बढिया लिखे नी झा जी ।राउर टोला में आकर बहुत मज़ा आइल ।खुब लिखत रहीं ।
NishikantWorld

ritesh said...

बड खुशी क गप कि मैथिल लोक सब अन्तर्जाल पर टोला बनैलन. टोला टापर के धियान राखै वला सब गोटा के बहुत बहुत शुभकामना.

गुस्ताख़ said...

गिरीन्द्र जी, खुशी भेल इ जाइन कअ कि आहां रिपोर्टर छी। हमहुं मैथिल धी नाम अछि मंजीत ठाकुर. गाम लक्ष्मीपुर ठाहर, जिला मधुबनी.. आहांक ब्लॉग हम अपन में जोडि रहल छी. हम दूरदर्शन में छी एखन.. आगा ... भविष्यक् गर्भ में अछि। मैथिली लिखक् सम्यक् अभ्यास नहिं अछि ताहि हिंदी में ब्लॉग बनोने छी। सादर मंजीत

Gajendra Thakur said...

गुस्ताखजी आ' गिरीन्द्रजी,

बड्ड नीक लागल अहाँ सभक ब्लॉग आ' कमेंट देखि कए।
अहाँ दुनू गोटेकेँ हम http://www.videha.co.in/ पर लिखबाक आमंत्रण दए रहल छी। हमर ई-मेल संकेत ggajendra@videha.com पर अपन रचना अवश्य पठाऊ।